Astro Pandit Ji

Kundli Upay, Lali Kitab Upay, Jyotish Upay, Pitr Upay, Mnaglik Upay, Shadi Upay, Rashinusar Upay

Category: चालीसा

श्री नवग्रह चालीसा !! Shri Navagraha Chalisa

श्री नवग्रह चालीसा [ Shri Navagraha Chalisa ] :  #नवग्रह_चालीसा का पाठ सब ग्रह की शांति के लिए किया जाता है ! नवग्रह चालीसा नित्य रूप से जातक द्वारा पढने से आपके जीवन में आ रही बाधाएं समाप्त होने लगाती है ! जो ग्रह आपको अशुभ फल दे रहे है वो आपको शुभ फल देने लग […]

श्री भैरव चालीसा !! Shri Bhairav Chalisa

श्री भैरव चालीसा [ Shri Bhairav Chalisa ] : !! दोहा !! श्री गणपति गुरु गौरि पद प्रेम सहित धरि माथ । चालीसा वन्दन करौं श्री शिव भैरवनाथ ॥ श्री भैरव संकट हरण मंगल करण कृपाल । श्याम वरण विकराल वपु लोचन लाल विशाल ॥ !! चौपाई !! जय जय श्री काली के लाला । जयति […]

श्री सूर्य चालीसा !! Shri Surya Chalisa

श्री सूर्य चालीसा [ Shri Surya Chalisa ] : दोहा कनक बदन कुण्डल मकर, मुक्ता माला अंग । पद्मासन स्थित ध्याइये, शंख चक्र के संग । । चौपाई जय सविता जय जयति दिवाकर, सहस्रांशु सप्ताश्व तिमिरहर । भानु, पतंग, मरीची, भास्कर, सविता, हंस, सुनूर, विभाकर । विवस्वान, आदित्य, विकर्तन, मार्तण्ड, हरिरूप, विरोचन । अम्बरमणि, खग, […]

श्री दुर्गा चालीसा !! Shri Durga Chalisa

श्री दुर्गा चालीसा [ Shri Durga Chalisa ] : !! Shri Durga Chalisa in hindi !! नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अंबे दुःख हरनी॥ निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥ ससि ललाट मुख महा बिसाला। नेत्र लाल भृकुटी बिकराला॥ रूप मातु को अधिक सुहावे। दरस करत जन अति सुख पावे॥ तुम […]

श्री पितृ देव चालीसा !! Shri Pitr Dev Chalisa

श्री पितृ देव चालीसा [ Shri Pitr Dev Chalisa ] :  दोहा हे पितरेश्वर आपको दे दियो आशीर्वाद, चरणाशीश नवा दियो रखदो सिर पर हाथ । सबसे पहले गणपत पाछे घर का देव मनावा जी । हे पितरेश्वर दया राखियो, करियो मन की चाया जी । । चौपाई पितरेश्वर करो मार्ग उजागर, चरण रज की […]

श्री गणेश चालीसा !! Shri Ganesh Chalisa

श्री गणेश चालीसा [ Shri Ganesh Chalisa ] :  जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल। विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥ जय जय जय गणपति गणराजू। मंगल भरण करण शुभ काजू॥ जय गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्धि विधाता॥ वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥ राजित मणि मुक्तन उर माला। […]

Astro Pandit Ji © 2016 Frontier Theme