Astro Pandit Ji

Kundli Upay, Lali Kitab Upay, Jyotish Upay, Pitr Upay, Mnaglik Upay, Shadi Upay, Rashinusar Upay

Category: स्तोत्र

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र !! Navagraha Peeda Hara Stotram

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र [ Navagraha Peeda Hara Stotram ] :  जो भी जातक #नवग्रह_पीड़ाहर_स्तोत्र का पाठ प्रतिदिन करता है उसके नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र उसकी सब प्रकार की पीड़ा हरण कर लेते है ! इस स्रोत्र का हर दिन पाठ करने से जातक का जीवन सुखमय होता है ! आपके द्वारा किये गये पापों का प्रायश्चित करने का […]

शनि स्तोत्र !! Shani Stotra

शनि स्तोत्र [ Shani Stotra ] :  जिस भी राशि के जातक के शनि की #साढेसाती या शनि की #ढैय्या परेशान करती है उस जातक को उस समय दशरथ कृत शनि स्तोत्र पढ़ने पर शनि से होने वाली परेशानी से निजात देखने को मिलता है ! #शनि_स्तोत्र ( #Shani_Stotra ) पढ़ने से शनि की द्वारा परेशानी से […]

दशरथ कृत शनि स्तोत्र !! Dashrath Krut Shani Stotra

दशरथ कृत शनि स्तोत्र [ Dashrath Krut Shani Stotra ] :  जिस भी राशि के जातक के शनि की साढेसाती या शनि की ढैय्या परेशान करती है उस जातक को उस समय दशरथ कृत शनि स्तोत्र पढ़ने पर शनि से होने वाली परेशानी से निजात देखने को मिलता है ! #दशरथ_कृत_शनि_स्तोत्र ( #Dashrath_Krut _Shani_Stotra ) पढ़ने से शनि […]

श्री कालभैरवाष्टक !! Shri Kalabhairavashtakam

श्री कालभैरवाष्टक [ Shri Kalabhairavashtakam ] : देव  राज  सेव्य  मान  पावनाग्रि   पन्कजं, व्याल यज्ञ सुत्र  मिण्डु  शेखरं   कृपाकरं, नारदाधि योगी वृन्द वन्दितं  दिगम्बरं, काशिका पुराधि नाद कालभैरवं भजे १ भानु  कोटि भास्वरम्, भवाब्धि  तारकं परम्, नीलकण्ठं ईप्सितार्थ दायकं त्रिलोचनम्, कालकाल मंबुजाक्ष मक्ष  शूल  मक्षरं, काशिका  पुराधि  नाद  कालभैरवं भजे २ शूल  तङ्ग […]

श्री काल भैरव स्तोत्र !! Shri Kala Bhairav Stotra

श्री काल भैरव स्तोत्र [ Shri Kala Bhairav Stotra ] : नमो भैरवदेवाय नित्ययानंदमूर्तये ।। विधिशास्त्रान्तमार्गाय वेदशास्त्रार्थदर्शिने ।।1।। दिगंबराय कालाय नमः खट्वांगधारिणे ।। विभूतिविलसद्भालनेत्रायार्धेंदुमालने ।।2।। कुमारप्रभवे तुभ्यं बटुकायमहात्मने ।। नमोsचिंत्यप्रभावाय त्रिशूलायुधधारिणे ।।3।।  नमः खड्गमहाधारहृत त्रैलोक्य भीतये ।। पूरितविश्वविश्वाय विश्वपालाय ते नमः ।।4।। भूतावासाय भूताय भूतानां पतये नम ।। अष्टमूर्ते नमस्तुभ्यं कालकालाय ते नमः ।।5।। कं कालायातिघोराय क्षेत्रपालाय कामिने ।। कलाकाष्टादिरूपाय कालाय […]

श्री कालभैरव वरद स्तोत्र !! Shri KalaBhairav Varad Stotra

श्री कालभैरव वरद स्तोत्र [ Shri KalaBhairav Varad Stotra ] :  ॐ नमो श्री गजवदना । गणराया गौरीवंदना ।।   विघ्नेशा भवभय हरणा । नमन माझे साष्टांगी ।।1।। नंतर नमिली श्री सरस्वती । जगन्माता भगवती ।। ब्रम्हकुमारी विणावती । वियादात्री विश्वाची ।।2।। नमन तसे गुरुवर्या । सुखनिधान सद्गुरुराया ।। स्मरुनी त्या पवित्र पाया । चित्तशुद्धि […]

तन्त्रोक्तं देवी सूक्तम् स्तोत्रं !! Tantroktam Devi Suktam Stotram

तन्त्रोक्तं देवी सूक्तम् स्तोत्रं [ Tantroktam Devi Suktam Stotram ] : !! Tantroktam Devi Suktam Stotram In Hindi !! नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नम:। नम: प्रकृत्यै भद्रायै नियता: प्रणता: स्म ताम् ॥१॥ रौद्रायै नमो नित्यायै गौर्यै धात्र्यै नमो नमः । ज्योत्स्नायै चेन्दुरूपिण्यै सुखायै सततं नमः ॥२॥ कल्याण्यै प्रणतां वृद्ध्यै सिद्ध्यै कुर्मो नमो नम:। नैर्ऋत्यै […]

भगवती स्तोत्रम् !! Bhagavati Devi Stotram

भगवती स्तोत्रम् [ Bhagavati Devi Stotram ] : !! Bhagavati Devi Stotram in hindi !! जय भगवती देवी नमो वरदे, जय पापविनाशिनी बहु फलदे ॥ जय शुम्भ निशुम्भ कपाल धरे, प्रणमामि तु देवि नरार्ति-हरे ॥१॥ जय चन्द्र्दिवाकर नेत्र धरे, जय पावक-भूषित-वक्त्र-वरे ॥ जय भैरव-देह-निलीन-परे, जय अन्धक-दैत्य-विशोष-करे ॥२॥ जय महिष-विमर्दिनि शूल-करे, जय लोक-समस्तक-पाप-हरे। जय देवि पितामह-विष्णुनते जय, भास्कर-शक्र-शिरोवनते ॥३॥ जय षण्मुख-सायुध-ईशनुते, जय सागर-गामिनि […]

भवानी अष्टकम् स्तोत्रं !! Bhavani Ashtakam Stotram

भवानी अष्टकम् स्तोत्रं [ Bhavani Ashtakam Stotram ] : !! Bhavani Ashtakam Stotram in hindi !! न तातो न माता न बन्धुर न दाता, न पुत्रो न पुत्री न भृत्यो न भर्ता। न जाया न विद्या न वृत्तिर्ममैव, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानी ॥१॥ भवाब्धावपारे महादुःखभीरु:, पपात प्रकामी प्रलोभी प्रमत्तः। कुसंसारपाशप्रबद्धः सदाहं, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानी ॥२॥ न जानामि […]

देवी अर्गलास्तोत्रम् !! Devi Argala Stotram

देवी अर्गलास्तोत्रम् [ Devi Argala Stotram ] : !! Devi Argala Stotram in hindi !! ॐ जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी दुर्गा शिवा क्षमा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते ॥१॥ जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि । जय सर्वगते देवि काल रात्रि नमोऽस्तुते ॥२॥ मधुकैटभविद्रावि विधातृ वरदे नमः । रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो […]

Astro Pandit Ji © 2016 Frontier Theme
Contact Us

Contact Us