छाछ (लस्सी) पीने के 10 फायदे ( Chach aur Lassi Pine ke fayde )

By | May 17, 2017

गर्मियों में छाछ (लस्सी) के बिना खाने का स्वाद ही नहीं आता हैं। खाने के साथ एक गिलास छाछ का मिल जाये तो खाना खाने का मजा आ जाता हैं। छाछ पचने में हलकी और शीतल होती हैं। छाछ पेट के भारीपन, आफरा, अपच, भूख न लगना, पेट की जलन और कफनाशक वातनाशक होती हैं। छाछ से पेट का भारीपन, आफरा, मूत्ररोग, रक्तविकार, भूख न लगना, लू, अतिसार, गर्मी, अपच व पेट की जलन की शिकायत दूर होती है। ताजा दही से बनी हुई छाछ ज्यादा फायदेमंद होती हैं। बाजार में मिलने वाली कोल्ड ड्रिंक की जगह आप छाछ पिए. यह बाजार में आसानी से मिल जाती है और स्वादिष्ट और सेहतमंद होती हैं। आज हम आपको Chach aur Lassi Pine ke fayde के बारे में बताते हैं।

chach

छाछ (लस्सी) पीने के 10 फायदे ( Chach aur Lassi Pine ke fayde ) :

  • बवासीर में फायदेमंद : छाछ में थोड़ा सा काला नमक और पीसी हुई अजवाइन डालकर पीने से बवासीर रोग में फायदा होता हैं। लस्सी में थोड़ा नमक और जीरा मिलकर पीने से भी बवासीर रोग में फायदा होता हैं। छाछ में सौंठ या पीपल या प्याज का साग मिलाकर लेने से भी लाभ होता हैं, नियमित रूप से एक गिलाश ताजी छाछ रोज पिए।
  • शारीरिक शक्ति : छाछ का सेवन ओषधि के समान हैं, रोजाना नाश्ते और भोजन के बाद छाछ पीने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है। छाछ के सेवन से अनेक शारीरक दोष दूर होते हैं और शरीर में तंदुरुस्ती और ताजगी आती हैं।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

  • मोटापा कम करे : छाछ पीने में हलकी और जल्दी पचने वाली होती हैं, छाछ के नियमित सेवन से मोटापा कम हो जाता हैं। लस्सी में फैट बहुत कम होता हैं। इसमें हेल्‍दी बैक्‍टीरिया और कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं.
  • नशे को कम करे : यदि आपको भांग या शराब का नशा ज्यादा हो गया हैं. तो एक गिलाश छाछ में नमक और जीरा डालकर ले, भांग का नशा कम हो जायेगा।
  • पाचन शक्ति बढाये : खाने के साथ एक गिलाश छाछ का रोज सेवन करने से हमारे शरीर के पाचन शक्ति बढ़ती हैं। छाछ के नियमित सेवन से भूख न लगना, अपच और आंतो की सफाई होती हैं। आप छाछ में काला नमक और भुना हुवा जीरा डालकर सेवन करना ज्यादा फायदेमंद होता हैं।
  • कब्ज से राहत : छाछ के नियमित सेवन से पेट की गैस और कब्ज से राहत मिलती हैं। छाछ में थोड़ा काला नमक और अजवाइन मिलकर पीने से कब्ज दूर हो जाती हैं। छाछ में जीरे और चीनी को मिलकर पीने से अतिसार या दस्त बंद हो जाता हैं। एक गिलाश छाछ में एक चम्मच शहद मिलकर पीने से दस्त बंद हो जाते हैं. छाछ पीने से पेट सम्बन्धी सभी बीमारियों में फायदा होता हैं। लस्सी पीने से एसिडिटी की समस्या नहीं होती हैं.

ज्योतिष सम्बन्धित उपाय जानने और अपनी किसी भी परेशानी को ज्योतिष उपाय से दूर करने के लिए यंहा क्लिक करें : Click Here

  • मूत्ररोग और पथरी : छाछ के साथ पूरा गुड़ खाने से मूत्ररोग और जलन में फायदा होता हैं। भटकटैया का रस छाछ के साथ पीने से पेशाब के साथ आने वाला धातु बंद हो जाती है। गाय के दूध की छाछ में 10 ग्राम जवाखार मिलाकर पीने से पथरी बाहर निकल जाती है। छाछ के सेवन से शरीर के हानिकारक तत्व बाहर निकल जाते हैं।
  • भूख बढाये : गर्मियों के दिनों में भूख नहीं लगने की समस्या हो जाती है. तब छाछ में सेंधानमक, कालीमिर्च और चित्रक की जड़ को पीसकर पीने से भूख न लगने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं। गर्मियों में रोज एक गिलाश ताजी छाछ का सेवन करना चाहिए।
  • लू से बचाव : गर्मियों में छाछ में नमक और जीरा डालकर पीने से लू नहीं लगती हैं। छाछ में काली मिर्च और काला नमक मिलकर पीने से पीलिया रोग नहीं होता है. और शरीर में पानी की कमी दूर होती हैं।
  • पेट सम्बन्धी रोग : छाछ के सेवन से पेट सम्बन्धी रोग दूर हो जाते हैं। छाछ में काला नमक, भुना जीरा और काली मिर्च मिलकर पीने से पेट के दर्द में फायदा होता हैं। छाछ में नमक और अजवाइन मिलकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते जाते हैं। गाय की छाछ में काली मिर्च और नमक मिलकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।
  • दाद-धब्बे दूर : छाछ से चेहरे को धोने से चेहरे के दाग-धब्बे, मुहासे और चिकनाई दूर हो जाती हैं. चेहरे पर चमक और सौंदर्य आ जाता हैं। गाय की छाछ में ग्वारपाठे के बीजों को मिलाकर दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाते है। रोजाना छाछ पीने से सफ़ेद दाग में भी फायदा होता हैं।
  • दन्त और हड्डियों को मजबूत : छाछ में कैल्शियम पाया जाता हैं, जो हमारे दन्त और हड्डियों को मजबूत बनता हैं। गठिया रोग में भी छाछ का सेवन फायदेमंद होता हैं।

ज्योतिष सम्बन्धित उपाय जानने और अपनी किसी भी परेशानी को ज्योतिष उपाय से दूर करने के लिए यंहा क्लिक करें : Click Here

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता : छाछ के नियमित सेवन से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करता हैं. लस्सी में अमीनो और फैटी एसिड तनाव और एनीमिया से बचाते है। लस्सी का सेवन शरीर में स्वस्थ बैक्टीरिया को पलने से रोकता है. लस्सी प्रोटीन बी कॉम्प्लेक्स, फोलिक एसिड, कैल्शियम, पोटेशियम, फास्फोरस, राइबोफ्लेविन और कैल्शियम पाया जाता हैं।
  • बालों के लिए : लस्सी में मौजूद बी 12 बालों को सफेद होने से रोकता हैं। छाछ बालों के लिए एक कंडीशनर के रूप में काम करती हैं. यह बालों को नरम बनाती हैं। यह त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होती हैं।
  • अन्य फायदे : छाछ के सेवन से मुँह के छाले ठीक हो जाते हैं। छाछ के सेवन से यह ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल करता हैं। घर पर बनाई हुई ताजी लस्सी में जीरा, काला नमक, काली मिर्च, हरा धनिया, हरी मिर्च, हींग और पुदीना जैसे मसालों को डालकर बनाते हैं। डिहाइड्रेशन से लड़ने में बहुत ही ज्यादा अच्छा पेय हैं। सूजन आने, बेहोशी, भ्रम या तृषा रोग में छाछ नहीं ले या डॉक्टर से पूछ कर ही छाछ का सेवन करे, ज्यादा छाछ का सेवन भी नुकसान दे सकता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *