दूध पीने के फायदे ( Dudh Pine ke fayde )

By | August 8, 2016

दूध पीने के फायदे ( Dudh Pine ke fayde ) :

दूध पीने के फायदे ( Dudh Pine ke fayde ) : Doodh Peene ke fayde, Health Benefits of Milk in Hindi.

Dudh Pine ke fayde

  • सुबह सिर्फ काढ़े के साथ दूध लिया जा सकता है।
  • दोपहर में छाछ पीना चाहिए। दही की प्रकृति गर्म होती है, जबकि छाछ की ठंडी।
  • रात में दूध पीना चाहिए पर बिना शकर के ; हो सके तो गाय का घी १- २ चम्मच दाल के ले . दूध की अपनी प्राकृतिक मिठास होती है वो हम शकर डाल देने के कारण अनुभव ही नहीं कर पाते।
  • एक बार बच्चें अन्य भोजन लेना शुरू कर दे जैसे रोटी , चावल , सब्जियां तब उन्हें गेंहूँ , चावल और सब्जियों में मौजूद केल्शियम प्राप्त होने लगता है। अब वे केल्शियम के लिए सिर्फ दूध पर निर्भर नहीं।
  • कपालभाती प्राणायाम और नस्य लेने से बेहतर केशियम एब्ज़ोर्प्शन होता है और केल्शियम , आयरन और विटामिन्स की कमी नहीं हो सकती साथ ही बेहतर शारीरिक और मानसिक विकास होगा।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

  • दूध के साथ कभी भी नमकीन या खट्टे पदार्थ ना ले, त्वचा विकार हो सकते है। Dudh Pine ke fayde.
  • बोर्नविटा , कॉम्प्लान या होर्लिक्स किसी भी प्राकृतिक आहार से अच्छे नहीं हो सकते। इनके लुभावने विज्ञापनों का कभी भरोसा मत करिए, बच्चों को खूब चने , दाने , सत्तू , मिक्स्ड आटे के लड्डू खिलाइए।
  • प्रयत्न करे की देशी गाय का दूध ले, जर्सी या दोगली गाय से भैंस का दूध बेहतर है।
  • दही अगर खट्टा हो गया हो तो भी दूध और दही ना मिलाये , खीर और कढ़ी एक साथ ना खाए . खीर के साथ नामकी पदार्थ ना खाए। Dudh Pine ke fayde.
  • अधजमे दही का सेवन ना करे, रात में दही या छाछ का सेवन ना करे।
  • चावल में दूध के साथ नमक ना डाले।

ज्योतिष सम्बन्धित उपाय जानने और अपनी किसी भी परेशानी को ज्योतिष उपाय से दूर करने के लिए यंहा क्लिक करें : Click Here

  • सूप में ,आटा भिगोने के लिए दूध इस्तेमाल ना करे। Dudh Pine ke fayde.
  • द्विदल यानी की दालों के साथ दही का सेवन विरुद्ध आहार माना जाता है, अगर करना ही पड़े तो दही को हिंग जीरा की बघार दे कर उसकी प्रकृति बदल लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *