गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र !! Ganesh Prataha Smaran Stotra

By | August 27, 2017

गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र [ Ganesh Prataha Smaran Stotra ] : 

गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र के लाभ : Ganesh Prataha Smaran Stotra Ke Labh : यह तो आप सब जानते है की हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश जी को विनायक यानी विघ्रहर्ता देवता माने जाते हैं ! और भगवान श्री गणेश जी उपासना और पूजा करने से जातक को बुद्धि और समृद्धि आती है ! जो भी जातक रोजाना नीचे दिए गये गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र का पाठ करता है उस जातक के सब काम सफल होने लगते है ! विशेष रूप से गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र का पाठ बुधवार और चतुर्थी तिथियां के दिन करना मंगलकारी व् लाभकारी माना जाता है !

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

!! गणेश प्रातः स्मरण स्तोत्र !! Ganesh Prataha Smaran Stotra !! 

प्रात: स्मरामि गणनाथमनाथबन्धुं सिन्दूरपूरपरिशोभितगण्डयुग्मम् ।

उद्दण्डविघ्नपरिखण्डनचण्डदण्ड – माखण्डलादिसुरनायकवृन्दवन्द्यम् ।।1।।

अर्थ : जो इन्द्र आदि देवेश्वरों के समूह से वन्दनीय हैं, अनाथों के बन्धु हैं, जिनके युगल कपोल सिन्दूर राशि से अनुरंजित हैं, जो उद्दण्ड(प्रबल) विघ्नों का खण्डन करने के लिए प्रचण्ड दण्डस्वरुप हैं, उन श्रीगणेश जी का मैं प्रात:काल स्मरण करता/करती हूँ.

प्रातर्नमामि चतुराननवन्द्यमान – मिच्छानुकूलमखिलं च वरं ददानम् ।

तं तुन्दिलं द्विरसनाधिपयज्ञसूत्रं पुत्रं विलासचतुरं शिवयो: शिवाय ।।2।।

अर्थ : जो ब्रह्मा से वन्दनीय हैं, अपने सेवक को उसकी इच्छा के अनुकूल पूर्ण वरदान देने वाले हैं, तुन्दिल हैं, सर्प ही जिनका यज्ञोपवीत है, उन क्रीडाकुशल शिव-पार्वती के पुत्र श्रीगणेश जी को मैं कल्याण प्राप्ति के लिए प्रात:काल नमस्कार करता/करती हूँ.

प्रातर्भजाम्यभयदं खलु भक्तशोकदावानलं गणविभुं वरकुण्जरास्यम् ।

अज्ञानकाननविनाशनहव्यवाह-मुत्साहवर्धनमहं सुतमीश्वरस्य ।।3।।

अर्थ : जो अपने जन को अभय प्रदान करने वाले हैं, भक्तों के शोकरुप वन के लिए दावानल(वन की अग्नि) हैं, गणों के नायक हैं, जिनका मुख श्रेष्ठ हाथी के समान है और जो अज्ञान रूपी वन को नष्ट करने के लिए अग्नि हैं, उन उत्साह बड़ाने वाले शिवसुत (शिव पुत्र) को मैं प्रात:काल भजता हूँ.

श्लोकत्रयमिदं पुण्यं सदा साम्राज्यदायकम् ।।

प्रातरुत्थाय सततं य: पठेत्प्रयत: पुमान् ।।

अर्थ : जो पुरुष प्रात: समय उठकर संयतचित्त से इन तीन पवित्र श्लोकों का नित्य पाठ करता है, यह श्लोक उसे सर्वदा साम्राज्य प्रदान करता है. 

।। इति श्रीगणेशप्रात: स्मरणस्तोत्रं सम्पूर्णम् ।।

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : ऋषि पंचमी की कथा : Click Here

जानें : ऋषि पंचमी की कथा : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *