गुरु चाण्डाल योग के उपाय !! Guru Chandal Yog Ke Upay

By | November 22, 2017

गुरु चाण्डाल योग के उपाय [ Guru Chandal Yog Ke Upay ] :

कुंडली में जब बृहस्पति यानी की गुरु और राहु एक साथ युक्ति होकर किसी भाव में बैठे हो या फिर एक दूसरे को किन्ही भी भावो में बैठ कर देखते हो, तो कुंडली में गुरू चाण्डाल योग ( guru chandal yog ) का निर्माण होता है । चाण्डाल का अर्थ निम्नतर जाति है । कहा गया कि चाण्डाल की छाया भी ब्राह्मण को या गुरू को अशुद्ध कर देती है । गुरु चंडाल योग को संगति के उदाहरण से आसानी से समझ सकते हैं !! इसलिए हम आपको यंहा गुरु चाण्डाल योग के उपाय ( guru chandal yog ke upay ) बताने जा रहे हैं ! यदि गुरु चाण्डाल योग भी आपकी जन्मकुंडली में है तो Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Sharma द्वारा बताये जा रहे कुंडली में गुरु चाण्डाल योग होने पर करें यह काम ( Kundali Me Guru Chandal Yog Hone Par Kare Yah Kaam ) को पढ़कर आप भी बहुत आसन तरीके से इस योग की शांति कर सकोंगे !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

कैसे बनता है कुंडली में गुरु चाण्डाल योग : kaise banta hai guru chandal yog

कुंडली में जब बृहस्पति यानी की गुरु और राहु एक साथ युक्ति होकर किसी भाव में बैठे हो या फिर एक दूसरे को किन्ही भी भावो में बैठ कर देखते हो, तो कुंडली में गुरू चाण्डाल योग ( guru chandal yog ) का निर्माण होता है । चाण्डाल का अर्थ निम्नतर जाति है । कहा गया कि चाण्डाल की छाया भी ब्राह्मण को या गुरू को अशुद्ध कर देती है । गुरु चंडाल योग को संगति के उदाहरण से आसानी से समझ सकते हैं । जिस प्रकार कुसंगति के प्रभाव से श्रेष्ठता या सद्गुण भी दुष्प्रभावित हो जाते हैं । 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ठीक उसी प्रकार शुभ फल कारक गुरु ग्रह भी राहु जैसे नीच ग्रह के प्रभाव से अपने सद्गुण खो देते है । जिस प्रकार हींग की तीव्र गंध केसर की सुगंध को भी ढक लेती है और स्वयं ही हावी हो जाती है, उसी प्रकार राहु अपनी प्रबल नकारात्मकता के तीव्र प्रभाव में गुरु की सौम्य, सकारात्मकता को भी निष्क्रीय कर देता है । राहु चांडाल जाति, स्वभाव में नकारात्मक तामसिक गुणों का ग्रह है, इसलिए इस योग को गुरु चांडाल योग ( guru chandal yog ) कहा जाता है ।

गुरु चाण्डाल योग के फल दुष्परिणाम : guru chandal yog effects

जिस जातक की कुंडली में गुरु चांडाल योग यानि कि गुरु-राहु की युति हो वह व्यक्ति क्रूर, धूर्त, मक्कार, दरिद्र और कुचेष्टाओं वाला होता है। ऐसा व्यक्ति षडयंत्र करने वाला, ईष्र्या-द्वेष, छल-कपट आदि दुर्भावना रखने वाला एवं कामुक प्रवत्ति का होता है, उसकी अपने परिवार जनो से भी नही बन पाती तथा वह खुद को अकेला महसूस करने लग जाता है और उसका मन हमेशा व्याकुल रहता है । 

वास्तु शास्त्र के अनुसार भाग्य बदलने के लिए करें यह उपाय : Click Here

गुरु चाण्डाल योग के उपाय : guru chandal yog ke upay

  • गुरु चांडाल योग ( guru chandal yog ) के जातकों को जीवन भर भगवान शिव जी की आराधना करनी चाहिए !
  • गुरु चांडाल दोष ( guru chandal dosh ) होने पर जातक को गुरु ग्रह के उपाय व् मंत्र का जाप करना चाहिए !
  • गुरु चांडाल दोष होने पर जातक को राहू ग्रह के उपाय व् मंत्र का जाप करना चाहिए ! 

यदि आपकी जन्मकुंडली में भी गुरु चाण्डाल योग के कारण से समस्या आ रही हो तो कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

  • कुंडली में गुरु चांडाल योग होने पर जातक को किसी अच्छे ज्योतिष से परामर्श लेकर गुरु या राहू ग्रह के उपाय से शांति करवानी चाहिए !
  • यदि जातक की कुंडली में गुरु चांडाल दोष ( guru chandal dosh )गुरु की शत्रु राशि में बन रहा हो तो हमें दोनों गुरु व् राहु ग्रह के उपाय करने चाहिए ! इसमें दोनों ग्रह के शांति मंत्र, पूजा, हवन व् दान करना चाहिए ।
  • यदि जातक की पत्रिका में गुरु चांडाल दोष ( guru chandal dosh ) गुरु ग्रह या गुरु ग्रह के मित्र की राशि या गुरु की उच्च राशि में बने तो उस स्थिति में राहु ग्रह के उपाय और मंत्र शांति करवा कर शांत करना चाहिए !

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : भाग्य चमकाने के उपाय : Click Here

जानें : राशि अनुसार भाग्य चमकाने के उपाय : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *