नाग पंचमी के उपाय !! Nag Panchami Ke Upay

By | July 22, 2017

नाग पंचमी के उपाय [ Nag Panchami Ke Upay & Nag Panchami Ke Din Kare Ye Upay ]

यंहा हम आपको नाग पंचमी के उपाय बताने जा रहे है ! यह सब उपाय आपको नाग पंचमी वाले दिन से शुरू करने या उसी दिन ही करने होगे ! हमारे द्वारा बताये जा रहे उपाय को करने से राहु ग्रह से होने वाली समस्या व् परेशानी से आपको निजात मिलेगा और उसे द्वारा हो रही परेशानी दूर हो जाएगी ! Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Sharma द्वारा बताये जा रहे नाग पंचमी के उपाय ( Nag Panchami Ke Upay & Nag Panchami Ke Din Kare Ye Upay ) को पढ़कर आप भी नाग पंचमी के दिनों में बताये गये उपाय को करके अपनी कुछ समस्या को बड़ी आसानी से दूर कर सकोगें !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500 nag panchami ke upay by acharya pandit lalit sharma 

नाग पंचमी के उपाय !! nag panchami ke upay in hindi

भय से मुक्ति के उपाय : bhay se mukti ke upay in hindi

आप नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा करके आप अपनी कुण्डलिनी शक्ति को जाग्रत कर सकते है ! यदि हम नाग पंचमी के दिन कुण्डलिनी शक्ति को जाग्रत करने के लिए कोई सा भी उपाय करते है वह और दिनों की तुलना में नाग पंचमी के दिन ज्यादा असर देता है ! जिससे आप किसी भी भय व् बाधा से बड़ी आसानी से निवारण पा सकते है ! 

आपको नागपंचमी के दिन सुबह जल्दी जग कर नित्य कर्म से निवृत होकर भगवान शिव जी के मंदिर में जाये ! और वंहा जाकर जल में थोडा कच्चा दूध मिलाकर शिवलिंग का अभिषेक करें ! उसके बाद वंहा बैठकर “नम: शिवाय” मंत्र की एक माला का जाप करें ! इसके बाद अपने घर पर आकर किसी धातु से बना हुआ नाग ले या आप एक सफ़ेद कागज पर नाग का चित्र बना लें ! उसके बाद सिंदूर से रंगे हुए चावल पर स्थापित कर दें ! और नाग के सामने एक पात्र में दूध रख दें ! उसके बाद नाग देवता को ध्यान करते हुए सिंदूर लगाये व् खुद भी तिलक करें ! और प्रार्थना करें की मेरा समस्त भय व् बाधा समाप्त कर दें ! उसके बाद नीचे दिए गये मंत्र का 27, 54 या 108 बार जाप करें ! उसके बाद वापस से “ॐ नम: शिवाय” मंत्र की एक माला का जाप करें ! ऐसा करने से आपके शत्रु shatru se mukti pane ke upay आपके सामने निर्बल होने लग जायेगें ! व् आपका सारा भय व् बाधा समाप्त हो जाएगी ! पूजन के बाद रखा हुआ दूध आप प्रसाद के रूप में ग्रहण कर लें !

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

मंत्र : जरत्कारूर्जगद्गौरी मनसा सिद्धयोगिनी।

वैष्णवी नागभगिनी शैवी नागेश्वरी तथा ।।

जरत्कारूप्रिया स्तीकमाता विषहरेति च।

महाज्ञानयुता चैव सा देवी विश्वपूजिता।।

द्वादशैतानि नमानि पूजाकाले तु यः पठेत्।

तस्य नागभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेत्।।

संतान प्राप्ति के उपाय : santan prapti ke upay in hindi

नागपंचमी के दिन आप नाग देव की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करके नागपंचमी के शाम के समय भगवन शिव का ध्यान करते हुए दिए गये मंत्र का जाप 51 बार करें ! ऐसा आपको नागपंचमी से लेकर सात दिन तक लगातार करना होता है ! ऐसा करने से आपको सनातन की प्राप्ति होती है व् यह उपाय आप अपनी संतान की रक्षा के लिए भी कर सकते है ! 

मंत्र : अनन्तं वासुकिं शेषं पùनाभं च कम्बलम्।

शंखपालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा।।

एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्।

संतान प्राप्यते संतान रक्षा तथा।

सर्वबाधा नास्ति सर्वत्र सिद्धि भवेत्।।

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

कालसर्प दोष निवारण उपाय : kaal sarp dosh nivaran upay in hindi

  • जिस भी जातक की कुंडली में कालसर्प दोष है वह जातक नागपंचमी वाले दिन श्रेष्ठ मुहूर्त में किसी बहती हुई या पवित्र नदी के पास जाकर अपने इष्टदेव को याद करते हुए गाय का दूध प्रवाहित कर दें ! उसके बाद अपने इष्ट देव से कालसर्प दोष से हो रही परेशानी से मुक्ति पाने की प्रार्थना करें व् वही बैठकर नव नाग स्तोत्र का पाठ करें ! ऐसा करने से जातक को कालसर्प से हो रही परेशानी से मुक्ति मिल जाएगी ! 

  • जिस भी जातक की कुंडली में कालसर्प दोष है वह जातक नागपंचमी वाले दिन नित्य कर्म से निवृत होकर साफ़ कपडे पहकर शुभ मुहूर्त में भगवान शिव जी के मंदिर में जाएँ ! उसके बाद शिवलिंग का गाय के दूध से अभिषेक करें ! और बेलपत्र आदि अर्पित करें ! फिर तांबे या चांदी से बने हुए नाग व् नागिन को प्राण प्रतिष्ठित कर शिवलिंग पर चढ़ा दें ! उसके बाद वही बैठकर 11 माला “ॐ नम: शिवाय” की करें और साथ में नव नाग स्तोत्र का पाठ करें ! इसके बाद उस प्राण प्रतिष्ठित नाग नागिन को बहते हुए जल में बहा दें ! ऐसा करने से कालसर्प दोष से हो रही परेशानी से मुक्ति मिल जाएगी !

Related Post : 

नागपंचमी की कथा ( Nag Panchami Ki Katha ) Nag Panchami Ki Kahani

नागपंचमी की पूजा विधि ( Nag Panchami Ki Puja Vidhi ) Nag Panchami Ki Puja Kaise Kare

राशि अनुसार नाग पंचमी के उपाय ( Rashi Anusar Nag Panchami Ke Upay ) Nag Panchami Ke Din Kare Rashi Anusar Ye Upay

नागपंचमी के कालसर्प दोष निवारण उपाय ( Nag Panchami Ke Kalsarp Dosh Nivaran Upay ) Nag Panchami Par Kare Kalsarp Dosh Nivaran Ke Upay

श्री नवनाग स्तोत्र ( Shri Navnag Stotra ) Navnag Stotram

श्री नाग स्तोत्र ( Shri Nag Stotra ) Naga Stotram

श्री नागराजा अष्टोत्तर शतनामावली ( Shri Nagaraja Ashtottara Shatanamavali ) Nagaraja Ashtottara Namavali

कालसर्प दोष के उपाय ( Kaal Sarp Dosh Ke Upay ) Kaal Sarp Dosh Ke Liye Kare Ye Upay

कालसर्प दोष के टोटके ( Kaal Sarp Dosh Ke Totke ) Kaal Sarp Dosh Ke Liye Kare Ye Totke

सर्प सूक्त स्तोत्र ( Sarpa Suktam Stotra ) Sarpa Suktam Stotram

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *