रोग भगाने के उपाय !! Rog Bhagane Ke Upay

By | February 16, 2016

रोग भगाने के उपाय [ Rog Bhagane Ke Upay ] : 

यदि आप या आपके घर पर कोई ना कोई हर वक़्त बीमारी से परेशान रहता है तो हम आपके लिए रोह मुक्ति उपाय बताने जा रहे है इन उपाय को आप विश्वास के साथ कीजिये साथ ही साथ आप कर्म भी करना बहुत जरुरी है मतलब की डॉक्टर से परामर्श से दवाई लेना !! कर्म और उपाय दोनों एक साथ करने से आप बहुत जल्द अपनी बीमारी से छुटकारा पा सकते है इसलिए SHRI HANUMAN BHAKT पंडित ललित ब्राह्मण आपको कुछ रोग मुक्ति, रोग निवारण के उपाय बताने जा रहे है जिन्हें आप बहुत ही आसानी से अपने घर पर खुद ही कर सकते हो असर आप स्वयं खुद ही देखने को मिलेगा !! एक बात याद रखना कर्म प्रदान होता है ज्योतिष कोई भगवान नही है अपितु यह एक आपके भविष्य की राह दिखता है !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500

  • सदा स्वस्थ बने रहने के लिये रात्रि को पानी किसी लोटे या गिलास में सुबह उठ कर पीने के लिये रख दें। उसे पी कर बर्तन को उल्टा रख दें तथा दिन में भी पानी पीने के बाद बर्तन (गिलास आदि) को उल्टा रखने से यकृत सम्बन्धी परेशानियां नहीं होती तथा व्यक्ति सदैव स्वस्थ बना रहता है।
  • यदि कोई प्राणी कहीं देर तक बैठा हो और उसके हाथ या पैर सुन्न हो जाएँ तो जो अंग सुन्न हो गया हो, उस पर उंगली से 27 का अंक लिख दीजिये, उसका सुन्न अंग तुरंत ठीक हो जाएगा।
  • यदि घर में किसी की तबियत ज्यादा ख़राब लग रही है तो रविवार के दिन बूंदी के सवा किलो लड्डू किसी भी धार्मिक स्थान चड़ा कर उसका कम से कम 75% वहीँ पर प्रसाद के रूप में बांटे।
  • हृदय विकार, रक्तचाप के लिए एकमुखी या सोलहमुखी रूद्राक्ष श्रेष्ठ होता है। इनके न मिलने पर ग्यारहमुखी, सातमुखी अथवा पांचमुखी रूद्राक्ष का उपयोग कर सकते हैं। इच्छित रूद्राक्ष को लेकर श्रावण माह में किसी प्रदोष व्रत के दिन, अथवा सोमवार के दिन, गंगाजल से स्नान करा कर शिवजी पर चढाएं, फिर सम्भव हो तो रूद्राभिषेक करें या शिवजी पर “ॐ नम: शिवाय´´ बोलते हुए दूध से अभिषेक कराएं। इस प्रकार अभिमंत्रित रूद्राक्ष को काले डोरे में डाल कर गले में पहनें।

आगे पढ़े : Rog Nivaran Achook Upay : Click Here

आगे पढ़े : राशि अनुसार पढ़े रोग निवारण उपाय : Click Here

  • हृदय विकार : सदा स्वस्थ बने रहने के लिये रात्रि को पानी किसी लोटे या गिलास में सुबह उठ कर पीने के लिये रख दें। उसे पी कर बर्तन को उल्टा रख दें तथा दिन में भी पानी पीने के बाद बर्तन (गिलास आदि) को उल्टा रखने से यकृत सम्बन्धी परेशानियां नहीं होती तथा व्यक्ति सदैव स्वस्थ बना रहता है।

  • जिन लोगों को 1-2 बार दिल का दौरा पहले भी पड़ चुका हो वे उपरोक्त प्रयोग संख्या 2 करें तथा निम्न प्रयोग भी करें :- एक पाचंमुखी रूद्राक्ष, एक लाल रंग का हकीक, 7 साबुत (डंठल सहित) लाल मिर्च को, आधा गज लाल कपड़े में रख कर व्यक्ति के ऊपर से 21 बार उसार कर इसे किसी नदी या बहते पानी में प्रवाहित कर दें।
  • किसी भी सोमवार से यह प्रयोग करें। बाजार से कपास के थोड़े से फूल खरीद लें। रविवार शाम 5 फूल, आधा कप पानी में साफ कर के भिगो दें। सोमवार को प्रात: उठ कर फूल को निकाल कर फेंक दें तथा बचे हुए पानी को पी जाएं। जिस पात्र में पानी पीएं, उसे उल्टा कर के रख दें। कुछ ही दिनों में आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ अनुभव करेंगे। 
  • Join पंडित ललित ब्राह्मण facebook प्रोफाइल : Click Here
  • यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, लाल किताब कुंडली बनवाना चाहते हो या किसी समस्या से परेशान चल रहे हो तो कॉल करें : 7821878500
  • आगे पढ़े : रोग निवारण अचूक उपाय : Click Here
  • यह भी पढ़े : रोग मुक्ति मंत्र : Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *