श्री नवग्रह चालीसा !! Shri Navagraha Chalisa

By | January 7, 2017

श्री नवग्रह चालीसा [ Shri Navagraha Chalisa ] : 

#नवग्रह_चालीसा का पाठ सब ग्रह की शांति के लिए किया जाता है ! नवग्रह चालीसा नित्य रूप से जातक द्वारा पढने से आपके जीवन में आ रही बाधाएं समाप्त होने लगाती है ! जो ग्रह आपको अशुभ फल दे रहे है वो आपको शुभ फल देने लग जाते है ! और नवग्रह चालीसा उन जातकों के लिए भी है जिन्हें संस्कृत भाषा के जानकार नही है वह भी इस चालीसा से अपने ग्रह को शांत कर सकते है ! इससे पढ़ने से आप अपनी मनोकामनाए पूर्ण होती है ! नवग्रह चालीसा ( #Shri_Navagraha_Chalisa ) के नित्य पाठ से पाठकर्ता को हर प्रकार की ग्रह बाधाओं से छुटकारा मिलता है और उसका जीवन सुखमय व्यतीत होने लगता है ! मनोवांछित फलों की प्राप्ति में भी इसका पाठ लाभप्रद है !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो दिए गये नंबर पर कॉल करें व् साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 7821878500

 !! दोहा !!

श्री गणपति गुरुपद कमल प्रेम सहित शिर नाय।

नवग्रह चालीसा कहत शारद होहुं सहाय।।

जय जय रवि शशि भौम बुद्ध जय गुरु भृगु शनि राज।

जयति राहु अरु केतु ग्रह करहु अनुग्रह आज।।

!! सूर्य !!

प्रथमहिं रवि कहं नावौ माथा। करहु कृपा जन जानि अनाथा।।

हे आदित्य! दिवाकर भानू। मैं मति मन्द महा अज्ञानू।।

अब निज जन कहं हरहु कलेशा। दिनकर द्वादश रूप दिनेशा।।

नमो भास्कर सूर्य प्रभाकर। अर्क मित्र अघ ओघ क्षमाकर।।

!! चन्द्र !!

शशि मयङ्क रजनीपति स्वामी। चन्द्र कलानिधि नमो नमामी।।

राकापति हिमांशु राकेशा। प्रणवत जन नित हरहुं कलेशा।।

सोम इन्दु विधु शान्ति सुधाकर। शीत रश्मि औषधी निशाकर।।

तुमहीं शोभित भाल महेशा। शरण-शरण जन हरहुं कलेशा।।

!! मंगल !!

जय जय जय मङ्गल सुखदाता। लोहित भौमादित विख्याता।।

अंगारक कुज रुज ऋणहारी। दया करहुं यहि विनय हमारी।।

हे महिसुत! छितिसुत सुखरासी। लोहितांग जग जन अघनासी।।

अगम अमंगल मम हर लीजै। सकल मनोरथ पूरण कीजै।।

!! बुध !!

जय शशिनन्दन बुध महराजा। करहुं सकल जन कहं शुभ काजा।।

दीजै बुद्धि सुमति बल ज्ञाना। कठिन कष्ट हरि हरि कल्याना।।

हे तारासुत! रोहिणी नन्दन। चन्द्र सुवन दु:ख दूरि निकन्दन।।

पूजहिं आस दास कहं स्वामी। प्रणत पाल प्रभु नमो नमामी।।

!! बृहस्पति !!

जयति जयति जय श्री गुरु देवा। करौं सदा तुम्हारो प्रभु सेवा।।

देवाचार्य देव गुरु ज्ञानी। इन्द्र पुरोहित विद्या दानी।।

वाचस्पति वागीस उदारा। जीव बृहस्पति नाम तुम्हारा।।

विद्या सिन्धु अंगिरा नामा। करहुं सकल विधि पूरण कामा।।

!! शुक्र !!

शुक्रदेव तव पद जल जाता। दास निरन्तर ध्यान लगाता।।

हे उशना! भार्गव भृगुनन्दन। दैत्य पुरोहित दुष्ट निकन्दन।।

भृगुकुल भूषण दूषण हारी। हरहु नेष्ट ग्रह करहु सुखारी।।

तुहिं पण्डित जोशी द्विजराजा। तुम्हारे रहत सहत सब काजा।।

!! शनि !!

जय श्री शनि देव रवि नन्दन। जय कृष्णे सौरि जगवन्दन।।

पिङ्गल मन्द रौद्र यम नामा। बभ्रु आदि कोणस्थल लामा।।

वक्र दृष्टि पिप्पल तन साजा। क्षण महं करत रंक क्षण राजा।।

ललत स्वर्ण पद करत निहाला। करहु विजय छाया के लाला।।

!! राहु !!

जय जय राहु गगन प्रविसइया। तुम ही चन्द्रादित्य ग्रसइया।।

रवि शशि अरि स्वर्भानू धरा। शिखी आदि बहु नाम तुम्हारा।।

सैंहिकेय निशाचर राजा। अर्धकाय तुम राखहु लाजा।।

यदि ग्रह समय पाय कहुं आवहु। सदा शान्ति रहि सुख उपजावहु।।

!! केतु !!

जय जय केतु कठिन दुखहारी। निज जन हेतु सुमंगलकारी।।

ध्वजयुत रुण्ड रूप विकराला। घोर रौद्रतन अधमन काला।। 

शिखी तारिका ग्रह बलवाना, महा प्रताप न तेज ठिकाना ।। 

वहन मिन महा शुभकारी, दीजै शान्ति दया उर धारी ।।

!! नवग्रह शान्ति फल !!

!! तीरथराज प्रयाग सुपासा, बसे राम के सुंदर दासा,

 ककरा ग्राम्हीं पूरे-तिवारी, दुर्वासाश्रम जन कष्ट उतरना सेतु,

 नवा-ग्रह शान्ति लिख्यो सुखा हेतु, जन तन कष्ट उतारण सेतु,  

 जो नित पाठ करै चित लावे, सब सुख भोगी परम पद पावे  !!

!! दोहा !!

 !! धन्य नवग्रह नवग्रह देव प्रभु, महिमा अगम अपार,

 चीत नव मंगल मोद गृह, जगत जनन सुखद्वारा ,

 यह चालीसा नावोग्रह विरचित सुन्दरदास,  

 पढ़त प्रेमयुक्त बढ़त सुख, सर्वानन्द हुलास !!

नोट : यदि आप कुंडली दिखा कर उपाय जानना चाहते हो या उपाय के साथ अपनी कुंडली का वर्षफल बनवाना चाहते हो तो दिए गये नंबर पर कॉल करें ! 7821878500 ( Not For Free Services )

Join पंडित ललित ब्राह्मण Facebook प्रोफाइल : Click Here

आगे इन्हें भी पढ़े : 

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र का पाठ पढ़े : Click Here

!! Navagraha Chalisa  (English) !!

!! Doha !!

!! Shri Ganapati Gurupad kamal, Prem sahit shiranaea,

 Navagraha chalisa kehat, Sharad hot sahae,

 Jai  jayi Ravi Shashi Som  Budha, jai guru bhragu shani raj,

 Jayati rahu aru ketu greh, karahu anugreh  aaja !!

!! Shree Surya Stuti !!

!!  Prathmahi ravi keh. Navo matha, karhu kripa jan jani anatha,

 Hey Aditya divakar bhanu, mai matimand maha agyanu,

Aba nij jan kahan harhu kalesha,Dinkar dvadasha rupa dinesha,

 Namo bhaskar surya prabhakar, ark mitr agh mogh shmakara !!

!! Shree Chandra Stuti !!

!!  shashi meyank rajanpati swami, Chandra kalanidhi namo namami,

 Rakapati Himanshu Rakesha, pranavat jan tana harahu kalesha,

 Som Indu vidhu shanti sudhakar,shit rashmi aushdhi nishakar,

 Tumahi shobhit sundar bhal mahesha, sharan sharan jana harahu kalesha !!

!! Shree Mangal Stuti !!

!!  Jai jai Mangal sukha daata, lauhit bhaumadika vikhyata,

 Angarak kuj ruj Rannahari, deya karhu yahi vinae hamari,  

 Hey mahisut Chitisut sukhrasi,  lohitanga jai jan aghnasi,

 Agam amangal ab har ljae, sakal manorath puran kije !!

!! Shree Budha Stuti !!

!!  Jai shashi nandan budh maharaja, karhu sakal jan kahan shubh kaja,

 Dije budhi sumati sujana, kathin kast hari kari kalyana,

 Hey tarasut rohini nandan, chandra suvan duhkh duwand nikandan,

 Pujahu aas daas kahu swami,pranat paal prabhu namo namami !!

!! Shree Brashpati Stuti !!

!!  Jayati jayati jai shri guru deva,karhu sada tumhari prabhu seva,

 Devacharya tum guru gyani,Indra purohit vidya dani,

 Vachaspati bagisa udara,jeev  brashaspati naam tumhara,

 Vidya sindhu angira naama,karhu sakal vidhi puran kama !!

!! Shree Shukr Stuti !!

!!  Shukradev tal jal jata,daas nirantar dhyan lagata,

 Hey ushena bhargav bhragunandan, daitya purohit dusht nikandan,

 Bhragukul bhusan dusana hari,harahu nest greh karahu sukhari,

 Tuhi dwijvar joshi sirtaja, nar shareer ke tumhi raja !!

!! Shree Shani Stuti !!

!!  Jai shri Shani dev ravinandan,jai  krishno sauri jagvandan,

 Pingal mand raudr yam nama,vaphra adi konasth lalama,

 Vakra dristi piplan tan saja, shran mah karta rank shran raja,

 Lalt svarn pad karat nihala,hrahu vipadi Chaya ke lala !!

!! Shree Rahu Stuti !!

!!  Jai jai rahu gagan pravisaiea, tumahi chandra aditya grasaiya,

 Ravi shash ari svarbhanu dhara,shikhi adi bahu naam tumhara,

 Saihinkey nishachar raja,ardhakaya jag rakhahu laja,

 Yadi greh samae pay kahi avahu,sada shanti rahi sukha upajavahu !!

!! Shree Ketu Stuti !!

!!  Jai Shree ketu kathin dukhhari,karhu srijan hit mangalkari,

 Dhvajayuta rund rup vikrala, ghor raudratan adhman kala,

 Shikhi tarika grah balvana, mahapratap na tej thikana,

 Vahan min maha shubhkari,deje shanti deya ura dhari !!

!! Navagraha Shanti Phal !!

 !! Tirathraj prayag supasa, bassai Ram ke sundar daasa,

 Kakra gramhi pure-tiwari, duvashram jan kasht utarna setu,

 nava-greh shanti likheo sukha hetu, jan tan kashta utaran setu,

 Jo nit path kare chit lave, sab sukh bhog param pad pave !!

!! Doha !!

!!  Dhanye navagreh  navagreh  dev prabhu, mahima agam apar,

 Cheet nav mangal mod greh, jagat janan sukhdvara,

 Yeh Chalisa navogreh vichrit sundardas,

 Padat premayukt badat sukh, sarvnand hulas !!

नोट : यदि आप कुंडली दिखा कर उपाय जानना चाहते हो या उपाय के साथ अपनी कुंडली का वर्षफल बनवाना चाहते हो तो दिए गये नंबर पर कॉल करें ! 7821878500 ( Not For Free Services )

Join पंडित ललित ब्राह्मण Facebook प्रोफाइल : Click Here

आगे इन्हें भी पढ़े : 

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र का पाठ पढ़े : Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *