My Blog

My WordPress Blog

विजयदशमी को शमी की पूजा का महत्व !! Vijayadashami Ko Shami Ki Puja Ka Mahatv

विजयदशमी को शमी की पूजा का महत्व [ Vijayadashami Ko Shami Ki Puja Ka Mahatv ] : 

हमारे भारतीय संस्कृति में प्रत्येक त्यौहार का अपना एक अलग महत्व है ! हर एक भारतीय पर्व हमें यह नया संदेश देता है कि हम अपने जीवन को किस प्रकार सुखी समृद्ध बना सकते हैं ! विजयादशमी पर रावण दहन के बाद कई प्रांतों में शमी के पत्ते को सोना समझकर देने का प्रचलन है, तो कई जगहों पर इसके वृक्ष की पूजा का प्रचलन है ! आओ जानते हैं कि क्यों पूजनीय है शमी का वृक्ष ।

यह तो आप सब जानते है की अश्विन मास के शारदीय नवरात्रों में शक्ति माँ दुर्गा जी की पूजन के नौ दिन बाद दशहरा अर्थात विजयादशमी का पर्व मनाया जाता है ! दशहरा अर्थात विजयादशमी को असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक हैं ! इस पर्व के दौरान रावण दहन और शस्त्र पूजन के साथ शमी वृक्ष का भी पूजन किया जाता है ! संस्कृत साहित्य में अग्नि को ‘शमी गर्भ’के नाम से जाना जाता है ! 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

हिंदू धर्म में विजयादशमी के दिन शमी वृक्ष का पूजन करते हैं ! शास्त्रानुसार कहते है की भगवान श्री राम ने लंका पर विजय पाने के लिए वृक्ष का पूजन कर विजय प्राप्ति हेतु प्रार्थना की ! और महाभारत के समय में जब पांडवों को देश निकला दिया गया जब तो उन्होंने अपने अंतिम वर्षो में अपने शस्त्रों को शमी के वृक्ष में छिपाए थे इन्ही २ कारणों से शमी पूजन की प्रथा आरम्भ हुई ! घर में ईशान कोण (पूर्वोत्तर) में स्थित शमी का वृक्ष विशेष लाभकारी और शुभकारी होता है ! कहते है की गुजरात के कच्छ जिले, के भुज शहर में करीबन साढ़े चार सौ साल पूराना एक शमी वृक्ष है !

भविष्यवक्ता भी कहते है शमी वृक्ष को : 

विक्रमादित्य के समय में सुप्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य वराहमिहिर ने भी अपने ‘बृहतसंहिता’ नामक ग्रंथ के ‘कुसुमलता’ नाम के अध्याय में वनस्पति शास्त्र में भी शमी वृक्ष अर्थात खिजड़े का उल्लेख मिलता है ! सुप्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य वराहमिहिर के अनुसार जिस साल शमी का वृक्ष ज्यादा फूलता-फलता है उस साल सूखे की स्थिति का निर्माण होता है ! विजयादशमी के दिन इसकी पूजा करने का एक तात्पर्य यह भी है कि यह वृक्ष आने वाली कृषि समस्या का पहले से संकेत मिल जाता हैं ! जिससे किसान पहले से भी ज्यादा पुरुषार्थ करके आने वाली मुश्किल से मुक्ति पा सकता है ।

शमी वृक्ष के लाभ : [ Shami Vriksh Ke Labh ] : 

भारत में खासकर गुजरात में कई किसान अपने खेतों में शमी वृक्ष बोते हैं जिसे उन्हें कई सारे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष लाभ भी हुए है। यह वृक्ष पानखर जैसा काँटेदार वृक्ष है जिसके पत्ते सूख जाने के बाद उसमें छोटेःछोटे पीले फूल आते हैं। उसकी जड़ जमीन में बहुत गहराई तक जाती है जिससे उपज के सूखने का भय नहीं रहता । 

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

यह वृक्ष हर साल कई प्राणियों के लिए चारे का काम करता है। गर्मियों के दिनों में वह बहुत ही फूलता-फलता है और उसमें ढ़ेर सारे पत्ते आते हैं। खेत की मेढ़ पर उसे बोने से फसल पर पड़ने वाले वायु के अधिक दबाव को भी वह कम कर देता है। जिससे खेतों की फसलों को तूफान से होने वाले नुकसान नहीं होते ।

इस वृक्ष की लकड़ियों से आज भी कई गाँवों में घर के चूल्हे जलते हैं। विदेशों के कृषि विशेषज्ञों ने भी यह बात मान ली है कि जिस खेत में शमी वृक्ष बोया जाता है उस खेत के किसान को देर-सबेर कई सारे फायदे होते हैं।

शायद इसलिए ही हिंदू धर्म में बरगद,पीपल,तुलसी और बिल्व पत्र जैसे पवित्र वृक्षों की तरह ही इस शमी वृक्ष (खीजड़ा)को भी पूजनीय माना जाता है ।

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>

जन्मकुंडली सम्बन्धित, ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

किसी भी तरह का यंत्र या रत्न प्राप्ति के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

बिना फोड़ फोड़ के अपने मकान व् व्यापार स्थल का वास्तु कराने के लिए कॉल करें Mobile & Whats app Number : 7821878500


नोट : ज्योतिष सम्बन्धित व् वास्तु सम्बन्धित समस्या से परेशान हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित ललित शर्मा पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 7821878500 ( Paid Services )

New Update पाने के लिए पंडित ललित ब्राह्मण की Facebook प्रोफाइल Join करें : Click Here

आगे इन्हें भी जाने :

जानें : विजयदशमी पर करें ये उपाय : Click Here

जानिए : दशहरे पर करें ये उपाय : Click Here

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : 7821878500

ऑनलाइन पूजा पाठ ( Online Puja Path ) व् वैदिक मंत्र ( Vaidik Mantra ) का जाप कराने के लिए संपर्क करें Mobile & Whats app Number : 7821878500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

My Blog © 2018 Frontier Theme